परियोजना वित्त

परियोजना वित्त

मुख्‍य गतिविधियां इस प्रकार हैं:

  • परियोजना वित्‍त पोषण: डेरी सहकारिताओं को उनकी वित्‍तीय आवश्‍यकताओं की पूर्ति करने के लिए लंबी अवधि के ऋण तथा कार्यशील पूंजी ऋण के रूप में वित्‍तीय सहायता दी जाती है ।

1 जुलाई 2015 से भावी योजनामें रोक लगा दी गई है । एनडीडीबी भावी योजना के अंतर्गत पहले से स्‍वीकृत परियोजनाओं को निधि प्रदान करना जारी रखेगी तथा पुनर्भुगतान शर्तों के अनुरूप इन परियोजनाओं के अंतर्गत ऋणों का पुनर्भुगतान किया जाएगा ।

  • वित्‍तीय नीतियां: समय-समय पर समीक्षा करना तथा ऋण देने की शर्तों, ब्‍याज दर, अधिस्‍थगन अवधि, पुनर्भुगतान शर्तें तथा सामान्‍य एवं सुरक्षा दस्‍तावेजीकरण पर प्रबंधन को परामर्श देना ।
  • वित्‍तीय निगरानी: डेरी सहकारिताओं द्वारा प्रस्‍तुत वित्‍तीय कथनों का विश्‍लेषण किया जाता है तथा फीडबैक दिया जाता है । प्रबंधन तथा सरकार को आवश्‍यकता आधारित रिपोर्ट उपलब्‍ध करायी जाती है ।
  • ऋण वसूली: नियमित ऋण/ब्‍याज किस्‍तों के भुगतान की निगरानी । डेरी सहकारिताओं की विशेष अनुरोध पर अतिदेय ब्‍याज किस्‍तों का पुनर्निधारण इरादतन चूककर्त्‍ताओं के मामले में अंतिम विकल्‍प के रूप में कानूनी कार्यवाही का सहारा लेना ।
  • निर्णय का समर्थन: नई परियोजनाओं के लिए पात्रता मानदंड/ऋण देने की शर्तों पर सलाह देना ।