आहार संपूरकों को बनाने में किए गए अनुसंधान और विकास के विभिन्न कार्य

आहार संपूरकों को बनाने में किए गए अनुसंधान और विकास के विभिन्न कार्य

पशु पोषण विभाग ने दुधारू पशुओं में अमदता (anoestrus)/ बार बार फिरने (repeat breeding) की समस्या के इलाज के लिए ‘’गर्भामिन (GarbhaMin)’’ गोलियाँ विकसित की हैं। अधिक दूध उत्पादन के लिए कैल्शियम, फास्फोरस और विटामिन डी-3 के लिए कैलसागर 'Calsagar' गोली का विकास किया है| रा.डे.वि.बो. ने दुधारू पशुओं में दुग्ध उत्पादन व गर्भाधान की दर में सुधार के लिए बाईपास फैट के साथ समपूरक के रूप में रूमेन संरक्षित कोलीन-क्लोराइड विकसित किया है और थनेला जैसी समस्यओं की रोकथाम के लिए एक नए सूत्र पर विकास कार्य चल रहा है|

R & D 1 R & D 2 R & D 3 R&D4

रा.डे.वि.बो. ने 3 मि.मी. की गोलियों के रूप में बछड़ो/ बछियो के लिए आहार तैयार किया है, जिसमें कैल्शियम प्रोपिओनेट, विटामिन ए, डी-3, इ और खनिज तत्वों का मिश्रण होता है|  यह उनकी विकास दर में सुधार करता है जिससे वे शीघ्र व्यस्क होते हैं| यह बछड़ो/ बछियो का आहार “राजदान जूनियर” के नाम से बनाया जा रहा है| चिलेटीड खनिज, विटामिन और जड़ी बूटी युक्त एक बैल के पूरक आहार का व्यवसायिक निर्माण  "नंदी बैल संपूरक" के नाम से आई. आई. एल,  हैदराबाद कर रही है|