क्रय सेवाएं

क्रय सेवाएं

मिशन कथन

अंतिम ग्राहक की आवश्‍यकतानुसार बेहतर गुणवत्‍ता एवं अधिक किफायती मूल्‍य पर उत्‍पादनकर्ताओं/व्‍यावसायिक एजेंसियों से उच्‍च स्‍तरीय व्‍यावसायिक सदाचार के माध्‍यम से पूर्ण ईमानदारी एवं प्रतिस्‍पर्धा के साथ वस्तुओं एवं सेवाओं की प्राप्ति करना ।

समूह क्रियाकलाप

  1. परियोजना प्राधिकारी/सेवा प्राप्‍तकर्ता की ओर से क्रय करना  
  2. राष्‍ट्रीय डेरी योजना-। (एनडीपी-।) के अंतर्गत क्रय करना
  3. रेल मिल्‍क टेंकरों  (आरएमटी) एवं पण्‍य वस्‍तुओं का प्रबंधन
  4. एनडीडीबी के लिए क्रय करना

1. परियोजना प्राधिकारी/सेवा प्राप्‍तकर्ता की ओर से क्रय

  • सेवा प्राप्‍तकर्ता की ओर से, एनडीडीबी की क्रय प्रक्रियाओं के अनुसार अभियांत्रिकी सेवाओं एवं जैव सुरक्षा प्रयोगशाला कक्ष की सभी परियोजना अवश्‍यकताओं का क्रय किया जाता है ।
  • तरल दूध प्रसंस्‍करण के साथ-साथ उत्‍पाद डेरी संयंत्रों, दूध प्रशीतन केंद्रों, पशु आहार संयंत्रों इत्‍यादि सहित 625 से अधिक परियोजनाओं हेतु सामानों का क्रय, कार्य एवं सेवाओं को एनडीडीबी क्रय विभाग द्वारा कार्यान्वित किया गया है ।

2. राष्‍ट्रीय डेरी योजना-। (एनडीपी-।) के अंतर्गत क्रय

  • परियोजना प्रबंधन इकाई (पीएमयू) पर बाह्य अध्‍ययन/परामर्श संविदाएं एवं अन्‍य क्रय कार्य
  • विश्‍व बैंक क्रय दिशा-निर्देश के अनुसार ईआईए की प्राप्ति क्षमता का मूल्‍यांकन करना एवं अधिकारियों को प्रशिक्षण देना ।
  • ढांचागत समझौतों एवं संबंधित मामलों को स्‍थापित करना ।
  • ईआईए के कागजातों (एनसीबी, एफए एवं खरीदारी) की समीक्षा करना ।
  • एनडीपी-। का आंकड़ा प्रबंधन ।
  • एमआईएस उपलब्‍धता की निगरानी करना ।

3. पण्‍य वस्‍तुओं एवं रेल मिल्‍क टैंकरों (आरएमटी) का प्रबंधन

  • अधिक दूध उपलब्‍धता वाले क्षेत्रों से अभावग्रस्‍त क्षेत्रों में दूध की आपूर्ति के लिए एनडीडीबी ने आरएमटी (वर्तमान में प्रति 40,000 लीटर क्षमता के 91 आरएमटी) बेड़ा तैयार किया है ।
  • आरएमटी का आवंटन तथा संघ एवं महासंघ के साथ संविदाओं का नवीकरण ।
  • आरएमटी का पीरियोडिक ओवरहॉलिंग (पीओएच) मरम्‍मत एवं रखरखव हेतु रेलवे के साथ समन्‍वय स्‍थापित करना ।
  • 44,660 लीटर क्षमता के नए आरएमटी की प्राप्ति ।
  • आवश्‍यकतानुसार डेरी पण्‍य वस्‍तुओं की उपलब्‍धता एवं आपूर्ति

4. एनडीडीबी के लिए क्रय

  • एनडीडीबी के लिए वार्षिक अनुरक्षण संविदा (एएमसी), वार्षिक दर संविदा (एआरसी), परिसंपत्ति बीमा, सामान/उपकरण का आयात तथा रसद प्रबंधन इत्‍यादि सहित पूंजी एवं राजस्‍व मदों की प्राप्ति ।